Posts

Showing posts from January 20, 2018

सांप का जहर कैसे काम करता है?

Image
सांप का जहर कैसे काम करता है? सांप का नाम सुनते ही हमारे रोंगटे खड़े हो जाते है और अगर सांप दिख जाये तो डर के मारे हमारी हालत खराब हो जाती है। हालाँकि हर सांप जहरीला हो ये जरुरी नहीं और हर सांप के जहर से मौत हो ये भी जरुरी नहीं लेकिन फिर भी सांप एक ऐसा जानवर है जिसका डर सभी को होता है। लेकिन क्या आपको पता है सांप का जहर कैसे काम करता है, कैसे ये हमारे शरीर में फैलकर हमारी मौत का कारण बन जाता है? आइये जानते हैं सांप का जहर कैसे काम करता है और सांप के जहर से जुडी कुछ रोचक जानकारियां। सांप में एक विष ग्रंथि होती है और उसका जहर उसी में होता है ये विष ग्रंथि सांप के दांत से जुडी होती है जिसे विषदंत कहा जाता है। मानव शरीर में लार ग्रंथि की तरह ही सांप के शरीर में भी लार ग्रंथि होती है जो की विष ग्रंथि में बदल जाती है। दरअसल सांप के भोजन से उसकी विष ग्रंथि में एक द्रव्य पदार्थ बनता है जो उसके विष में बदल जाता है। अगर सांप का जहर बिना खून में मिले सीधे मुँह के जरिये पिया जाये तो इसका जहर शरीर में नहीं फैलता क्योंकि ऐसे में सांप का जहर हमारे अमाशय में जाता है और अमाशय में पाचक एन्जाइम अम्ल उसे…

इंसानों का सबसे बड़ा दुश्मन मच्छर

Image
इंसानों का सबसे बड़ा दुश्मन मच्छर इंसानों का सबसे बड़ा दुश्मन मच्छर मच्छर दिखने में भले ही एक छोटा सा जीव हैं लेकिन दुनियाभर में मनुष्यों का सबसे बड़ा दुश्मन मच्छर ही हैं | मच्छर से बड़ा दुश्मन मनुष्यों का कोई भी जीव नहीं हैं | क्योंकि मच्छर के काटने से हर साल पूरी दुनिया में लगभग 10 लाख लोगों की मौत हो जाती हैं | मच्छर डायनासोरों से भी पहले से ही पृथ्वी पर मौजूद हैं |दुनियाभर में मच्छरों की 3500 से अधिक प्रजातियाँ खोजी जा चुकी हैं |केवल मादा मच्छर ही जीवों का खून चूसती हैं | क्योंकि मादा मच्छर को अंडे के परिवर्धन के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती हैं जो रक्त से प्राप्त होता हैं | जबकि नर मच्छर पेड़ – पौधों का रस चूसतें हैं |मच्छरों के कारण अनेक बीमारियाँ फैलती हैं | जैसे – डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जीका आदि |मादा एनाफिलिज ( Anopheles ) मच्छर के काटने से मलेरिया रोग होता हैं |मलेरिया से हर वर्ष करीब 30 करोड़ लोग प्रभावित होते हैं |मादा एडीज एजेप्टी ( Aedes Aegypti ) मच्छर के काटने से डेंगू रोग होता हैं |एडिस मच्छर के काटने से चिकनगुनिया और जीका रोग होता हैं |सामान्यता मच्छर की आयु 14 दिन से…