Posts

Showing posts from January 4, 2018

नए साल से इन फ़ोन पर नहीं चलेगा व्हाट्सऐप

Image
नए साल से इन फ़ोन पर नहीं चलेगा व्हाट्सऐप

सेहत के लिए कितनी हानिकारक है चॉकलेट? इस पोस्ट को शेयर करें Facebook इस पोस्ट को शेयर करें Twitter साझा कीजिए

Image
सेहत के लिए कितनी हानिकारक है चॉकलेट?

मानव शारीर के कटे अंग वापस उग आएंगे अगर हुआ कुछ ऐसा तो । विज्ञान महान है।

Image
छिपकली की कटी हुई पूँछ दोबारा क्यों उग जाती हैं
छिपकली की कटी हुई पूँछ दोबारा क्यों उग जाती हैं

छिपकली
Regeneration ( पुनरुदभवन ) एक ऐसी प्रक्रिया हैं जिसमे जीवों के खोये हुए या कटे हुए अंग उग ( Genrate ) आते हैं | जैसे – छिपकली, ऑक्टोपस, तारा मछली, एक्सोलोट्ल्स ( Axolotls ) सैलामेंडर आदि जीवों के शरीर में पुनरुदभवन ( Regeneration ) की अनोखी काबिलियत पायी जाती हैं | जिसके कारण इनके अंग कटने, क्षतिग्रस्त होने पर दोबारा उग आते हैं | उदाहरण – छिपकली की कटी हुई पूँछ दोबारा उग जाती हैं |

एक्सोलोट्ल्स ( Axolotls ) सैलामेंडर
एक्सोलोट्ल्स ( Axolotls ) सैलामेंडर के हाथ – पैर आदि अंग कट जाने पर आसानी से उग आते हैं , लिंकिया ( Linckia ) वंश की तारा मछली में कटी हुई Arm ( भुजा ) से सम्पूर्ण तारा मछली बन सकती हैं | कुछ जीवों में साधारण चोट लगने पर कुछ समय बाद घाव ( Wound ) दोबारा भर जातें हैं | लेकिन उन जीवों के कटे हुए अंग ( हाथ, पैर या अंगुलियाँ आदि ) नहीं उगते हैं | उदाहरण – मनुष्यों में किसी अंग के कट जाने पर वह दुबारा नहीं उगता | लेकिन मनुष्यों में भी कुछ ऐसी कोशिकाएँ पायीं जाती हैं | जिनमे Reg…
Image
हम धरती पर मौजूद एलियन हैं
हम धरती पर मौजूद एलियन हैं Humans are not from Earth – ये किताब वैज्ञानिक एलिस सिल्वर ( Eillis Silver ) के द्वारा लिखी गई हैं | इस किताब में बताया गया हैं कि हम इंसान पृथ्वी पर नहीं जन्मे थे या हम पृथ्वी के मूल निवासी नहीं हैं | और मनुष्य धरती पर कोई परग्रही जीव हैं | इसको समझाने के लिए एलिस सिल्वर ने कुछ तथ्य दिए हैं | धरती पर मौजूद सभी जीवों में मनुष्य इकलौता ऐसा जीव हैं जिसे पीठ दर्द होता हैं | क्योंकि उनके अनुसार कालान्तर में मानव जाति किसी कम ग्रेविटी वाले ग्रह पर विकसित हुई होगी |मनुष्यों के सिर का आकार शरीर के अनुपात के मुकाबले बड़ा होता हैं | लेकिन अन्य जीवों में ऐसा नहीं होता हैं |मनुष्य तेज धूप को सहन करने के लिए नहीं बना | लेकिन रेप्टीलिया व अन्य वर्ग के जीव लगातार तेज धूप को सहन कर सकते हैं |मनुष्य तेज रोशनी को नहीं देख सकता हैं | जैसे – सूर्य को नहीं देख सकता है | लेकिन पृथ्वी पर मौजूद लगभग सभी पक्षी सूर्य की तेज रोशनी को देख सकते हैं |मनुष्यों में ये गुण नहीं होता कि वो प्राकृतिक दुर्घटना होने से पहले ही उसे पता लग जाये | लेकिन इस पृथ्वी पर मौजूद…